Tagged: Hindi Poem

67

काश मैं वो बारिश की बूँद होता

काश मैं वो बारिश की बूँद होता, काश मैं वो बारिश की बूँद होता, तो आपके कन्धों पर बैठ के एक और बार दुनिया देख पाता, आपकी साइकिल पर बैठ सैर कर पाता…   काश...