मैंने तो बस | हिंदी कविता

मैंने तो बस | हिंदी कविता

मैंने तो बस - हिंदी कविता

सबके पल गिने चुने हैं
सबके दिन गिने चुने हैं 
तुमने कितने दिन चुने हैं?

किसी ने दिन चुने हैं
किसी ने तम चुने हैं 
मैंने तो बस 
आज में हम चुने हैं 

किसी ने बीते कल चुने हैं
किसी ने आने वाले सवाल चुने हैं 
मैंने तो बस 
आज में हल चुने हैं 

किसी ने डाह चुने हैं
किसी ने दम्भ चुने हैं
मैंने तो बस 
मोहब्बत के अंक चुने हैं

किसी ने पर्वत चुने हैं
किसी ने आब चुने हैं 
मैंने तो बस
तेरी गोद के वो पल चुने हैं

किसी ने कफ़न चुने हैं
किसी ने दमन चुने हैं
मैंने तो बस
अमन के शस्त्र चुने हैं 

किसी ने ज़िन्दगी के फलसफे चुने हैं 
किसी ने मौत के सफ़हे चुने हैं 
मैंने तो बस 
खट्टे मीठे फालसे चुने हैं

किसी ने उजाले चुने हैं
किसी ने अँधेरे चुने हैं
मैंने तो बस 
टिमटिमाते सितारे चुने हैं

किसी ने क़सीदे चुने हैं
किसी ने सदके चुने हैं
मैंने तो बस 
तेरी राह के पत्थर चुने हैं

किसी ने वचन चुने हैं
किसी ने गीत चुने हैं
मैंने तो बस
तन्हाई के शोर चुने हैं

किसी ने दीवान चुने हैं
किसी ने पन्ने चुने हैं
मैंने तो बस
तेरे हर शब्द चुने हैं 

किसी ने घर चुने हैं 
किसी ने हमसफ़र चुने हैं 
समीर ने तो बस 
तेरी तलाश में सफ़र चुने हैं  

सबके पल गिने चुने हैं 
सबके दिन गिने चुने हैं 
तुमने कितने दिन चुने हैं?

मानस ‘समीर’ मुकुल

डाह – जलन, दम्भ – घमंड, अंक – गोद, आब – पानी

If you love to read and write poetry and want to be a part of an upcoming anthology ‘UMeU Anthology,’ here is your opportunity to be a part of something unique. More details here. Limited Spots. The submissions are open now. Last date to send in your submission is 30th Nov 2021.

If you love my poetry I recently published my first Poetry book – ‘You, Me & The Universe’ – Poems on the Conspiracies of the Universe. You can order the book and find more details HERE

I would love to hear your feedback on this poem. Do share in the comments section. You can read other poems here.

Banner Picture Credit – Ken Cheung on Unsplash

You may also like...

14 Responses

  1. मैंने तो बस इन शब्दों के भाव चुने है…
    कोशिश की है इसके भीतर छिपे अर्थ को समझने की.
    बेहद खूबसूरत कविता
    I think it all depends on what we choose to believe,
    and how you choose to live it with your choices.
    tumne kitne din chune hai???

    • Manas Mukul says:

      Bahut Sara Dhanyawad kavita ko pasand karne ke liye. Arth pahunch jaye to usse acha kya aur kuch samjh Aa Gaya to mujhe jarur samjhaye 😊😊

  2. Rashi Roy says:

    Beautiful. Some of the phrases are so simple yet profound – hum, pal, sitaare, shabd chune hai. Such deep thoughts and your questions will make one think. Keep up the great work.

    • Manas Mukul says:

      Thank you so much for appreciating the poem. I am glad that some of the thoughts and emotions reached out. Thanks again 😊😊👍🏽👍🏽

  3. Leela Satyan says:

    हमने तो आपकी कविता की तारीफ़ में बस ‘वाह’ चुना है…बहुत उम्दा लिखा है मानव जी

  4. Deepika Sharma says:

    Beautifully written

  5. Monika says:

    Loved it

  6. Pooja says:

    Superb Manas. Loved the flow. Impactful 👏👏👏👏

  7. Bahut hi sundar rachna hai . Shayad choona aur usme apne aap ko dund pana hi zindagi he. Isliye sabke lie zindagi alag si hai. Bahut Khoob 👌

Love your feedback!

%d bloggers like this: